Sanak Movie Review: Vidyut Jammwal Shines Brightest in The Film Strictly For Action Lovers!

Sanak over-emphasizes the action, leaving the story and the emotional core under-developed

Language: Hindi

In the 1988 action film Die Hard, John McClane (Bruce Willis) must save his wife when her office building is taken over by a group of heavily armed terrorists.

In 2021, in Hindi film Sanak, Vidyut Jammwal plays Vivaan Ahuja, a MMA trainer with low blood sugar. His wife Anshika (Rukmini Maitra) is recovering from treatment for Hypertrophic Cardiomyopathy (HCM), a genetic heart condition. All is well with her recovery until a group of heavily armed terrorists capture the hospital and take patients and staff hostage. Vivaan must save his wife and free the hostages.

Outside the hospital building, ACP Jayati Bhargava (Neha Dhupia) is commanding the official post. As is the format of such action films, the police wait for a civilian on the inside to do most of the dirty work before bursting in at the last minute.

Within the corridors of the under-siege building, Vivaan finds two unlikely sidekicks, one is Zubin, a child, and the other is ward boy Riyaaz (Chandan Roy). However, the portrayal of a tween “willing to kill some bad guys” and with extensive knowledge of guns and bombs is disturbing.

Chandan Roy Sanyal plays Saju, the merciless mastermind behind the siege. He is commanding a team of supposedly highly skilled soldiers from around the world. The actors cast in those parts might be quick with their side kicks, flips, and jabs, but their acting needed a great deal more study. So the onus rests on Roy Sanyal to infuse the proceedings with energy.

Action director Andy Long Nyugen has choreographed a collection of set pieces that pit Jammwal against the baddies. Using the location, there is innovative use of equipment found in a hospital including an MRI machine and the physiotherapy room.

“Jammwal scores in the Jackie Chan-inspired fight scenes but does not quite nail the emotional moments”

Sanak feels like a hastily put together project with a script that over-emphasizes the action, leaving the story and the emotional core under-developed.

There is a time-bound mission, many hostages, and lots of gunfire, yet, at a crucial juncture, Vivaan has a long conversation with Riyaaz about Anshika. At the same time, Anshika is recording a cheesy voice message to her husband. There is a particular – unintentionally so – hilarious moment in the climax when Saju tosses aside the very reason he planned the mission. And why does Vivaan repeatedly consume sachets of some powder?

Writer Ashish Prakash Varma and director Kanishk Varma seem to be motivated by the John McTiernan-directed Die Hard films that spawned a franchise. Though Vivaan is an impressive one-man army, who almost single-handedly saves the day, one hopes that unlike Die Hard, Sanak (meaning madness) stops at one film only.

Sanak is streaming on Disney+ Hotstar Multiplex.

Rating :
7.8/10 (IMDB)

Blog by Veer Ahir

For more Books and Blogs @veerthewriter

FOLLOW ME ON TWITTER

Venom: Let There Be Carnage review: Superhero sequel doubles down on rom-com energy

Eddie Brock is still struggling to coexist with the shape-shifting extraterrestrial Venom. When deranged serial killer Cletus Kasady also becomes host to an alien symbiote, Brock and Venom must put aside their differences to stop his reign of terror.

MOVIE :
VENOM : LET THERE BE CARNAGE
Action, Sci-fi, Superhero
1 Hour 37 minutes

CAST :
Tom Hardy
Woody Harrelson
Michelle Williams
Naomie Harris
Reid Scott
Stephen Graham

WRITER :
Tom Hardy
Kelly Marcel

DIRECTOR :
Andy Serkis

SCREENPLAY :
Kelly Marcel
Tom Hardy

PRODUCERS :
Avi Arad
Matt Tolmach
Amy Pascal
Tom Hardy
Kelly Marcel
Hutch Parker

RATING :
3.5/5 (Times of India)
6.5/10 (IMDB)
60% (Rotten Tomatoes)

Venom: Let There Be Carnage is best enjoyed as a madcap romcom, instead of a comic-book movie.

investigative reporter and an alien symbiote live together in a shitty apartment in San Francisco, bicker over house rules, go through a rough break-up, regain their sense of self in the face of adversity, and reconcile over telenovelas and shared couple goals at a tropical getaway.
Venom: Let There Be Carnage
is best enjoyed as a madcap romcom, instead of a comic-book movie. There’s a lot of fun and frolic when it revels in the former, and almost forgets its obligations to the latter. Viewers who take these two often-clashing approaches in stride will find themselves pleasantly surprised.

Taking over directing duties from Venom helmer Ruben Fleischer is Andy Serkis, who’s built his whole career by bringing humanity to non-human characters. Eddie/Venom (Tom Hardy) are much like Smeagol/Gollum, two minds struggling for control over one body. The struggle manifests both externally and internally. Watching Eddie negotiate with Venom about biting off human heads in the presence of startled civilians is oddly amusing. Since the events of the last film, Eddie and Venom have become pet-owners of sorts, committed to varying degrees to a pair of chickens named Sonny and Cher. Like every relationship, they have their good moments and bad. Venom makes Eddie breakfast, and helps him get through his heartbreak over the engagement between his ex-fiancée Anne (Michelle Williams) and her doctor boyfriend Dan (Reid Scott). While Eddie has human responsibilities to tend to, all Venom wants to do is feed his ravenous appetite. Frustrations grow. What they really need is some couples’ counselling, as Dan too suggests. But both say hurtful things, before breaking up.

The conflict over living arrangements here is not about the apartment but Eddie’s body. The jokes are played on the compatibility issues between two partners with a metaphysical obstacle to overcome. The Dr. Jekyll and Mr. Hyde dilemmas, and the resulting friction provides screwball sparks in an otherwise straightforward superhero movie set-up. Hardy savours the roles and carries himself with such true-blue conviction, it takes on a certain nobility. Even when the antics get silly. The fresh spin the Venom franchise puts on superhero films is by focusing on the volatile relationship between the ego and the alter-ego. In a pop-culture landscape jam-packed with costumed do-gooders, the Venom movies seem to posit themselves as counter-culture. The rawness to the visuals and tone is as much a remedial reaction, as it is a calculated decision. But just like Deadpool, they’re all part of the same cycle of self-sustaining feedback loop. A highly lucrative one too. But at least
Venom: Let There Be Carnage
has a personality it can call its own, which you can’t say in all honesty about most of the MCU entries.

Eddie is still trying to cut it as a reporter. A big opportunity comes a-knocking when he gets an exclusive interview with incarcerated serial killer Cletus Kasady (Woody Harrelson), who insists he won’t speak to anyone else. Detective Patrick Mulligan (Stephen Graham) obliges, hoping Eddie can get Cletus to reveal the locations of his victims’ bodies. Thanks to Venom’s Sherlock and Picasso skills, Eddie does. The result of which has Cletus sentenced to death. On the day of his execution, Cletus beckons Eddie again to give the man who virtually signed his death warrant a piece of his mind. Only, he ends up provoking Eddie a little too much, and Venom’s protective instincts take over. The ensuing physical altercation ends with Cletus biting Eddie’s hand, getting a taste of that symbiote blood and soon his own symbiote with it. On becoming the titular Carnage, he lives up to the name, breaking out of prison and cutting a swath through the Californian city.


Besides Eddie and Venom, Carnage has a love story of his own. The prologue opens in 1996 on an orphanage where a younger Cletus meets and falls in love with Frances Barrison, who will grow up to be Shriek (Naomie Harris), before they’re separated. Being a mutant with a piercing shriek (hence the name), Frances is sent to another, more sinister, institution. In the years since, Cletus never forgets about her. For she was his “one bright light” in a life full of darkness. Once he breaks out of prison, he breaks her out too. And as you would expect, the whole thing ends with a CGI-driven face-off between the two and Eddie/Venom. Red weddings and lessons in good journalism are also involved. The special effects look like they have been bought at bargain price, the set pieces are perfunctory, and some of the plot beats recycled. But they can all be easily forgiven in light of the whole thing being over in 90-odd minutes.

By upping the rom-com quotient, the film also doubles down on the queer coding. Post break-up at an underground rave, Venom declares that he is “out of the Eddie closet.” But he doesn’t enjoy his newfound freedom for too long, and realises how much he misses Eddie. Theirs is quite a needy relationship. And only on separating do they realise they’re meant to be together. As the two acknowledge each other’s individuality and how their identities complement each other, they build a stronger symbiotic bond — until it will be tested again in the third instalment of course. When the first film was announced, Hardy playing Brock and voicing Venom left us cautiously curious. Two films later, caution has been thrown into the wind. Curiosity has been piqued .

Venom: Let There Be Carnage is now available in Indian cinemas.

Blog by Veer Ahir
For more Blogs and Books @veerthewriter

Follow me on twitter

Travel Blog :20,000 रुपये से कम में बैंकॉक की सैर,ऐसे बनाएँ बजट यात्रा का प्लान।

Bangkok,Thailand🇹🇭

ऐसा देश जो सुरक्षित, सस्ता, यात्रा-अनुकूल और निकट है (भारत के लिए) – इससे अधिक और क्या चाहिए? यदि आप अभी भी संदेह के सागर का सामना कर रहे हैं, तो मैं आपको भारत से थाईलैंड की यात्रा के लिए टिप्स बताउंगा, जो पहली बार यात्रा करने वालों के लिए अत्यंत उपयोगी साबित होगी।

बैंकॉक क्यों जाएं? :

क्या आप विदेश में ऐसी डेस्टिनेशन की तलाश में हैं जो आपको मंत्रमुग्ध कर दे मगर पॉकेट पर भारी न हो? बैंकॉक आपके लिए ऐसा ही एक स्थान है! चाहे इसके मनोरम बीच हों या अनुकूल स्थानीय आकर्षण, बेहतरीन भोजन और वर्ष भर खिली धूप, बैंकॉक हमेशा से किफायती सफर करने वालों के लिए परफेक्ट रहा है और आगे भी रहेगा। इन सबसे ऊपर, यहां वाटर स्पोर्ट्स, आइलैंड-हॉपिंग टूर्स और आरामदायक मसाज जैसी अनेकों प्रकार की गतिविधियां भी उपलब्ध हैं।

मैत्रीपूर्ण स्थानीय लोग, बेहतरीन भोजन और किफायती आवास बैंकॉक को कम बजट की हॉलिडे करने वालों के लिए जन्नत बनाता है।

कैसे पहुंचें? :

बैंकॉक में दो अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट हैं: सुवर्णभूमि एयरपोर्ट(Suvarnabhumi Airport -BKK) और डॉन मुआंग एयरपोर्ट(Don Mueang International Airport-DMK)। दोनों में नियमित रूप से भारत से किफायती कैरियर(Economy Class) की सुविधा उपलब्ध है। एक किफायती टिकट यहां बुक करें।

वापसी हवाई किराया :

लगभग 10,000 रुपये (ट्रिप से पहले ही रिटर्न टिकट बुक करले)

आवश्यक यात्रा दस्तावेज़:

1. 6 महीने की वैधता वाला पासपोर्ट
2. रिटर्न फ्लाइट टिकट
3. होटल रिजर्वेशन स्लिप
4. भरा हुआ VOA आवेदन फॉर्म
5 . धन का प्रमाण
6. फ्लाइट का बोर्डिंग कार्ड
7. पासपोर्ट साइज फोटो

कहां ठहरें? :
 
ग्रैंड अल्पाइन होटल(Grand Alpine Hotel): बैंकॉक के शॉपिंग डिस्ट्रिक्ट प्रतुनम के बीचोंबीच स्थित, ग्रैंड अल्पाइन होटल किफायती दरों पर सुपीरियर और डीलक्स रूम उपलब्ध कराता है।
टैरिफ: 1,500 रुपये प्रति नाइट
सुविधाएं: कैफे । मुफ्त वाई-फाई । रेस्टोरेंट । साझा लाउंज

मार्वल होटल(Marvel Hotel): बैंकॉक के सबसे जीवंत क्षेत्र सुखमवित में स्थित, मार्वल होटल सुपीरियर और डीलक्स रूम के विकल्पों से युक्त एक बजट-अनुकूल होटल है।
टैरिफ: 1,500 रुपये प्रति नाइट
सुविधाएं: स्वीमिंग पूल । मुफ्त वाई-फाई । बार । रेस्टोरेंट

खाओ सैन के होस्टल(Khaosan’s Hostel): कम खर्च में सफर करने वालों के लिए आदर्श, खाओ सैन में कई होस्टल उपलब्ध हैं जहां बहुत ही सस्ती दरों में ठहरने की सुविधाएं मिल जाती हैं। 
टैरिफ: 8000 रुपये प्रति नाइट
सुविधाएं : कैफे । मुफ्त वाई-फाई । लाउंज

क्या करें? :

मसाज थेरेपी का आनंद लें: अपनी इन्द्रियों को थाई तरीके से राहत देना उतना महंगा भी नहीं है जितना कि सुनने में लगता है। स्पा और मसाज के विकल्प बैंकॉक में सदैव उपलब्ध हैं जो 400 रुपये से शुरू होते हैं।

माय थाई का अनुभव करें: थाई लोग अपनी पारंपरिक बॉक्सिंग को पसंद करते हैं और लुम्पिनी स्टेडियम में 1000 बाट में इसकी टिकट प्राप्त कर सकते हैं। अगर आप भी सस्ते में गरजते खिलाड़ियों का अनुभव लेना चाहते हैं तो मुफ्त में मुकाबले को देखने के लिए बुधवार की शाम को MBK शॉपिंग सेंटर पहुंचें।

ऐरोबिक्स क्लास में हिस्सा लें: सैकड़ों आकर्षणों के साथ, खास तौर पर भीड़भाड़ के समय के दौरान बैंकॉक की सैर करने में आपके शरीर को थकान अनुभव हो सकती है। मांसपेशियों के दर्द से राहत देने के लिए शाम को शरणरोम पार्क पहुंचें और कोई फीस दिये बिना सार्वजनिक ऐरोबिक्स क्लास में हिस्सा लें।

कहां खाएं? :

कैफे बैंगरक(Cafe Bangrak): बेहतरीन लाइव म्यूजिक और आर्ट एग्जिबिशन की वजह से इस छोटे से स्थान में हर दिन भारी भीड़ जुटती है। कैफे बैंगरक अपनी ताज़े थाई पकवानों और स्वादिष्ट स्मूदीज़ के लिए मशहूर है।
खर्च: दो लोगों के भोजन का खर्च लगभग 800 रुपये
खुलने का समय: सुबह 11:00 बजे से रात 11:00 बजे तक प्रतिदिन
पता: साला डेंग सिलोम रोड, सिलोम, बैंकॉक ।
फोन: +66-26320256

मिसेज बलबीर्स(Mrs.Balbir’s): मसालेदार भारतीय करी के साथ-साथ बेहतरीन स्वाद युक्त शाकाहारी भोजन जैसे नवरतन कोरमा और स्टफ्ड टोमैटो करी इसके मेन्यू में शामिल हैं। अगर आप अपनी बैंकॉक यात्रा के दौरान अच्छे भारतीय भोजन का मज़ा उठाना चाहते हैं तो मिसेज बलबीर्स एक उत्तम विकल्प है।
खर्च: 2 लोगों के भोजन का खर्च लगभग 1,000 रुपये
खुलने का समय: मंगलवार से रविवार, सुबह 11:30 बजे से रात 11:30 बजे तक, सोमवार को बंद
पता: 155/1-2 सुखमवित सोई 11/1, बैंकॉक 10110, थाईलैंड ।
फोन: +66-26510497

थाई स्ट्रीट फूड(Thai Street Food):अगर आप थाईलैंड जा रहे हो तो आपको वहां के स्ट्रीट फूड ज़रूर खाना चाहिए,कुछ बाट की बचत करने के लिए रेस्टोरेंट ढूंढने के बजाय स्ट्रीट फूड के विकल्पों को चुनें।

यात्रा का पूरा खर्च :
4 नाइट के लिए खर्च (प्रति व्यक्ति)

होटल :
3,000 रुपये
वापसी परिवहन:
10,000 रुपये
भोजन:
2,000 रुपये
विविध:
500 रुपये
कुल
15,500 रुपये
*सभी रेट और खर्चे परिवर्तन के अधीन हैं।

कुछ और खर्च करना चाहते हैं? :

शॉपिंग: बैंकॉक खरीदारों के लिए जन्नत है जो अपने सस्ते सामानों के लिए काफी प्रसिद्ध है। प्लेटिनम फैशन मॉल पहुंचें – जो एक होलसेल सेंटर है जहां कीमतें शहर के कुछ अन्य भागों की तुलना में कम हैं। इससे भी बेहतर डील्स के लिए, अपनी यात्रा में बैंकॉक में एक वीकेंड को शामिल करें और चाटुचक वीकएंड मार्केट की ओर जाएं।

अयुथाया की दैनिक यात्रा: ट्रेन से ऐतिहासिक शहर अयुथाया जाने के लिए 800 रुपये अतिरिक्त खर्च करें। दो घंटे के ट्रेन के मनोरम सफर के बाद आप UNESCO वर्ल्ड हेरिटेज साइट पर पहुंचते हैं जहां कई ऐतिहासिक रूप से महत्वपूर्ण मंदिर और संग्रहालय देखने लायक हैं।

डिनर क्रूज: लाइव थाई आर्ट और संगीतमय प्रदर्शन, थाई शास्त्रीय नृत्य कार्यक्रमों और एक बेहतरीन अंतरराष्ट्रीय बुफे डिनर का आनंद लेने के लिए चाओ फ्राया डिनर क्रूज का विकल्प चुनें। ये सारी चीजें लगभग 2,500 रुपये में उपलब्ध।

बीच पार्टी : थाईलैंड में सबसे फेमस हैं बीच पार्टी, जो सबसे खास है, दिन मे और रात में बीच का मजा उठाए

किफायती सुझाव :
ऑफ-सीजन में जाएं: हालांकि बैंकॉक वर्ष भर चलने वाला गंतव्य है, अगर आप गर्मियों के महीने में मई से अगस्त के दौरान सफर करते हैं तो आप निस्संदेह अपने आवासीय खर्चों पर लगभग 15-20% की बचत कर सकते हैं।तो आप किसका इन्तेजार कर रहे हो, अपना बेग पैक कीजिए और चलते है BANNGKOK🤘🏻

Blog by Veer Ahir
For more Blogs and Books @veerthewriter

Follow me on twitter

Travel Blog : मालदीव घूमने के लिए नहीं चाहिए ज्यादा पैसा, ऐसे बनाएँ बजट यात्रा का प्लान!

मालदीव, एक ऐसा खूबसूरत देश जहाँ घूमने से हम भारतीय अकसर परहेज़ करते हैं और इसका कारण है पैसा। हम सबको ये अंदाज़ा है कि मालदीव घूमने में लाखों रूपए खर्च हो जायेंगे। अगर आप भी उनमें से हैं जो खर्च की वजह से मालदीव के बारे में सपने में भी नहीं सोचते तो वक़्त आ गया है इस सपने को हकीकत में बदलने का! आज मैं आपको बताउँगा कि आपके पॉकेट के हिसाब से मालदीव की बजट ट्रिप कैसे प्लान करें।

मालदीव में कहाँ घूमे ?

सबसे पहले ये निर्णय लेना बहुत ज़रूरी है कि मालदीव में आप घूमना चाहते हैं। मालदीव में लगभग 105 आइलैंड रिसॉर्ट्स हैं और सभी रिसॉर्ट्स आपको सभी तरह की सुविधाएँ और रोमांच देते हैं। इसलिए आप अपने बजट के हिसाब से ही रिसॉर्ट का चयन करें। क्योंकि हम यहाँ एक सीमित बजट की बात कर रहे हैं इसलिए मेरा सुझाव होगा कि आप माफुशी द्वीप के लिए अपना ट्रिप प्लान करें। माफुशी मालदीव का सबसे बेहतर और सस्ता रिसॉर्ट है और वहाँ आपको हर तरह की सुविधा और रोमांच मिलेगा जो किसी और रिसॉर्ट में है।

सबसे पहले तो आप अपना पासपोर्ट, कुछ पासपोर्ट साइज़ की फ़ोटो और वीज़ा बनवा लें। मालदीव के लिए वीज़ा मिलना बहुत आसान है पर अपनी तैयारी के लिए कम से कम एक या डेढ़ महीने पहले ही वीज़ा के लिए आवेदन दे दें। इसके बाद आपका अगला कदम होगा फ्लाइट के लिए टिकट बुक करना।

कौन से मौसम मे जाए मालदीव्स ?

क्योंकि हम बजट ट्रिप के बात कर रहें है तो इस बात का चयन करना भी ज़रूरी है कि टिकट कब सस्ती होती है और कौन से मौसम में घूमना सही होगा। मालदीव में ज़्यादातर भीड़ दिसंबर से मार्च के महीने में होती है। ज्यादा यात्रियों की वजह से हर चीज़ महँगी हो जाती है इसलिए बजट ट्रिप के लिए बेहतर यही होगा कि आप अक्टूबर या नवम्बर की योजना बनाएँ। लगभग ₹13,000 में आपको आने जाने की फ्लाइट मिल जाएगी। आप दिल्ली से मेल एयरपोर्ट के लिए फ्लाइट ले सकते हैं जहाँ से आपको फेरी मिल जाएगी। मेल टाउन से माफुशी पहुँचने के लिए फेरी का किराया $1-$2 डॉलर है मतलब ₹70-100 के करीब।

ध्यान रहे कि मालदीव में लगभग हर जगह अमरीकी डॉलर स्वीकार किया जाता है इसलिए माले एयरपोर्ट के आस-पास ही अपनी मुद्रा बदलवा लें।

कितने दिनों की योजना बनाएँ? :

वैसे तो आप पूरा सप्ताह बिता सकते हैं और तब भी आप मालदीव छोड़ कर नहीं जाना चाहेंगे। अगर आप 3 रातें और 4 दिन का ट्रिप प्लान करेंगे तब भी आप हर चीज़ का मज़ा ले सकते हैं जो आप उन 7 दिनों में मिलेगा। ध्यान रहे कि जिन दिनों के लिए आप ट्रिप की योजना बना रहे हैं उसमें शुक्रवार ना आता हो। शुक्रवार को मालदीव में छुट्टी होती है इसलिए बाज़ार बंद होता है। कुछ दुकानें खुली मिल भी गयी तो हर चीज़ बहुत महँगी मिलेगी।

माफुशी द्वीप की खासियत :

माफुशी की सबसे बड़ी खासियत ये है कि मालदीव जैसे महंगे देश में जहाँ होटल के एक रात का किराया ₹35,000- ₹1,40,000 तक होता हैं वहीं माफुशी में आपको ₹4,000- ₹7,000 तक में ठीक कमरा मिल जाएगा। इस द्वीप के उत्तरी इलाके में आपको सभी तरह के स्पोर्ट्स एडवेंचर मिलेंगे और इसकी दूसरी तरफ आपको सभी तरह के होटल और कैफ़े दिखाई देंगे। अपने बजट के हिसाब से होटल का चयन करें। कई रिसॉर्ट आपको कमरे के साथ कॉम्प्लीमेंट्री नाश्ता भी देंगे तो या आप वो पैकेज ले लें या फिर माफुशी का लोकल खाना खाएँ। माफुशी में आपको कई प्रकार के रेस्तरां मिलेंगे और एक व्यक्ति के खाने में ₹500 से ₹1000 तक का खर्च होगा। एरीना बीच रेस्तरां और क्रिस्टल सैंड में आपको दाल फ्राई और चिकेन बिरयानी भी मिल जाएगी। अगर आप मांसाहारी हैं तो वहाँ का लोकल सी फ़ूड ज़रूर खाएँ। मालदीव्स की टूना कोठू रोशी काफी मशहूर है। हारबर कैफ़े में शाकाहारियों को कई अच्छे विकल्प मिलेंगे।

माफुशी द्वीप में क्या-क्या करें? :

कयाकिंग :

मालदीव का सबसे मशहूर सपोर्ट कयाकिंग आपको बेहतरीन रोमांच से रूबरू करवाएगा। वहाँ का विशाल समुद्र और, और आप अपनी नाव में समुद्र में घूमने का आनंद लेंगे। पानी के साथ ये एडवेंचर आपको आत्म विश्वास से भर देगा और आप पूरी एनर्जी के साथ हर स्पोर्ट का आनंद उठाने के लिए तैयार हो जायेंगे। इसके लिए आपको ₹6000-₹7000 खर्च करने होंगे।

स्कूबा डाइविंग :

मालदीव्स का सबसे प्रसिद्ध वॉटर स्पोर्ट है स्कूबा डाइविंग। मालदीव का बेस्ट स्कूबा डाइविंग साईट है काडूमा थिला। यहाँ आपको अलग अलग तरह के शार्क, रंग बिरंगी मछलियाँ कछुवे और कई समुद्री प्राणी दिखाई देंगे। आपके साथ एक गाइड होगा जो आपको हर प्रकार की जानकारी देगा। एक ड्राइव की कीमत ₹4000-₹5000 तक है। स्कूबा डाइविंग करते हुए आपको ये एहसास हो जाएगा कि मालदीव आना आपकी ज़िंदगी का सबसे खूबसूरत निर्णय था।

स्नोर्कलिंग :

अगर आपको स्कूबा डाइविंग करने में परेशानी है तो आपके लिए सबसे बेहतर विकल्प है स्नोर्कलिंग। नीमो रीफ, टर्टल रीफ और कई तरह के रीफ पॉइंट्स तक आप हर दिन स्नोर्कलिंग पर जा सकते हैं। स्नोर्कलिंग के एक ट्रिप की कीमत ₹1000-₹2000 तक है। मेरा सुझाव होगा कि आप सबसे लम्बी दूरी तक स्नोर्कलिंग पर जाएँ हर पानी में छुपे हर जीव जंतु को करीब से देखें। स्नोर्कलिंग आपको एक विचित्र एहसास कराएगा और ट्रिप पूरी होनी पर ये आपके सबसे बेहतर अनुभवों में से एक होगा।

नाईट फिशिंग :

अगर आपको फिशिंग का शौक है तो आप नाईट फिशिंग पर ज़रूर जाएँ। माफुशी में नाईट फिशिंग शाम 5:30 बजे से शुरू होती है। आप नदी के बीच में एक नाव ले जाकर वहाँ करीब 3 घंटे तक फिशिंग कर सकते हैं। अगर आपको फिशिंग नहीं भी पसंद है तो मेरा सुझाव होगा कि आप बस नाव ले जाएँ और वहाँ बैठकर समुन्दर का आनंद उठाएँ। आप वहाँ का बारबेक्यू डिनर भी बुक कर सकते हैं जिसमें आपको ताज़ा सी फ़ूड दिया जायेगा। इस ट्रिप के लिए आपको ₹2000 के करीब खर्च करना होगा।

रिसॉर्ट आइलैंड का रोमांच :

कई यात्री ऐसे हैं जिनको वॉटर विला में रहना पसंद है। अगर वॉटर विला आपके बजट में आता है तो आप भी वहाँ कमरा ले सकते हैं। अगर आपने वहाँ कमरा नहीं भी लिया है तो आप वहाँ के रोमांच को मिस नहीं करेंगे। आप किसी भी वॉटर विला रिसॉर्ट में जाकर एक दिन के लिए वहाँ के स्विमिंग पुल, वाटर एक्टिविटीज और हर तरह के वॉटर स्पोर्ट में भाग ले सकते हैं। सभी वॉटर विला की अलग कीमत है पर आम तौर पर आपको ₹7000 तक देने होंगे।

माफुशी में किन बातों का रखें ध्यान :

सबसे पहले तो अगर आप शाकाहारी हैं तो हमेशा खाना आर्डर करने से पहले कैफ़े में पूछ लें की किस चीज़ से वो खाना बना है ताकि आपको परेशानी न हो। अगर आप शराब के शौक़ीन है तो आपको थोड़ी मुश्किल हो सकती है। वहाँ रिसॉर्ट आइलैंड पर ही आपको शराब मिल सकती है क्योंकि बाकि जगह शराब बेचने पर प्रतिबन्ध है। आपको किसी भी तरह की शराब चाहिए तो आप अपने होटल के स्टाफ को बता सकते हैं। बाहर आपको शराब नहीं मिलेगी। मालदीव एक मुस्लिम बहुल देश है इसलिए बीच पर पहने जाने वाले कुछ कपड़ों पर सीमाएं हैं इसलिए इन चीजों का खास ख्याल रखें।

सुरक्षा :

माफुशी द्वीप हर तरह से सभी के लिए सुरक्षित है तो अगर आप अकली भी घूमने गई हैं तो किसी तरह की चिंता न करें। सभी दुकानें 10 बजे के बाद बंद हो जाती हैं तो रात को आप समुन्द्र किनारे लेटकर तारों को निहार सकते हैं। मालदीव का साफ़ आसमान और समुन्द्र किनारे बहते ठंडी हवाएँ आपके पूरे दिन की थकान को ख़त्म कर देगी और आप अन्दर से शांत और तरो ताज़ा महसूस करेंगे।

बजट :

3 रातें- 4 दिन की ट्रिप (फ्लाइट के साथ) के लिए आपको ₹40,000 तक खर्च करना होगा।

अगर आप मालदीव की प्लानिंग कर रहे हैं तो अब देर ना करे और बस अगले महीने की टिकट से अपने इस मज़ेदार ट्रिप की शुरुआत करें।

Blog by Veer Ahir
For more Blogs and Books @veerthewriter

Follow me on twitter

No Time To Die Review : डैनियल क्रेग ने कहा जेम्स बॉन्ड के किरदार को अलविदा,जबरदस्त एक्शन से जीता दर्शकों का दिल

James Bond is enjoying a tranquil life in Jamaica after leaving active service. However, his peace is short-lived as his old CIA friend, Felix Leiter, shows up and asks for help. The mission to rescue a kidnapped scientist turns out to be far more treacherous than expected, leading Bond on the trail of a mysterious villain who’s armed with a dangerous new technology.

MOVIE : No Time To Die (नो टाइम टू डाइ)
English,Action, Adventure,Thriller,Spy
2 Hours 43 minutes

Movie Review :
नो टाइम टू डाइ (No Time To Die)

Cast :
डैनियल क्रेग , क्रिस्टोफर वाल्ट्ज , रामी मलेक , रैल्फ फिएंस , लिया सेडॉक्स , लशाना लिंच , एना डि अरामास और

Writer :
नीएल परविस , रॉबर्ट वेड , कैरी जोजी फुकुनागा और फोएबे वालर ब्रिज

Director :
कैरी जोजी फुकुनागा

Producer :
माइकल जी विल्सन और बारबरा ब्रोकली

Rating :
4.5/5

डैनियल क्रेग ने किया जेम्स बॉन्ड कर किरदार को अलविदा। अब वह दोबारा कभी जेम्स बॉन्ड का किरदार करते नहीं दिखेंगे। 15 साल का उनका इस जासूसी दुनिया का सफर एक ऐसे मोड़ पर फिल्म ‘नो टाइम टू डाइ’ में आ पहुंचा, जहां हर हीरो आकर अलविदा कहना चाहेगा। बहुत भावुक पल है ये। फिल्म देखते समय बार बार याद आती है साल 2012 में डैनियल क्रैग से हुई मुलाकात। तब, फिल्म ‘स्काईफाल’ के प्रीमियर पर लंदन का न्यौता पाने वाला भारत का मैं इकलौता हिंदी पत्रकार/फिल्म समीक्षक था। डैनियल क्रेग से लंदन के डॉरचेस्टर होटल में हुई मुलाकात अविस्मरणीय रही। तब वह जेम्स बॉन्ड के रूप में अपनी तीसरी फिल्म के लिए काफी उत्साहित थे। तब तक जेम्स बॉन्ड एक खालिस जासूस ही था। ब्रिटिश खुफिया एजेंसी एमआई 6 का जासूस जिसे ओहदा मिला था 007 का। 00 एमआई6 का कोड होता है और 7 नंबर मिलना मतलब ‘लाइसेंस टू किल’। इस बार फिल्म ‘नो टाइम टू डाइ’ में दो 007 हैं। दोनों का मिलना रोचक है। साथ काम करना रोमांचक है। और, फिर दोनों का अलग होना बहुत ही भावुक। जेम्स बॉन्ड इतना फिल्मी पहले कभी नहीं हुआ।

Story :
ब्रिटि‍श खूफिया एजेंट जेम्स बॉन्ड अब रिटायर हो चुका है। वह अब अकेले एक वैरागी की तरह जिंदगी जी रहा है। लेकिन इसी बीच वह खुद को प्रोजेक्ट हेराक्लीज़ के रहस्य में उलझा हुआ पाता है। वह इसे सुलझाने की जितनी कोश‍िश करता है, यह उतना उलझता जाता है। कई बार उसे यह लगने लगता है कि वह हार रहा है। लेकिन क्या वह इस मिशन को पूरा पाएगा? क्‍या प्रोजेक्‍ट हेराक्‍लीज का रहस्‍य सुलझेगा? फिल्‍म ‘नो टाइम टू डाई’ इसी की कहानी है।

Review :
जेम्‍स बॉन्‍ड फ्रेंचाइजी फिल्‍मों के फैन्‍स के लिए ‘नो टाइम टू डाई’ खास है। ऐसा इसलिए कि यह बतौर जेम्‍स बॉन्‍ड ऐक्‍टर डेनियल क्रेग की आख‍िरी फिल्‍म है। शुरुआत में वह यह फिल्‍म करने को भी तैयार नहीं थे, लेकिन आख‍िरकार उन्‍हें मना लिया गया। फिल्‍म की रिलीज में भी कोरोना महामारी के कारण देरी हुई है। जाहिर है ऐसे में ‘नो टाइम टू डाई’ के लिए दर्शकों का उत्‍साह पहले से कहीं अध‍िक है। अच्‍छी बात यह है कि फिल्‍म आपको निराश भी नहीं करती। बल्‍क‍ि कई मायनों में उम्‍मीद से बेहतर एंटरटेनमेंट दे जाती है।

फिल्‍म की शुरुआत यानी इंट्रो सीन से ही यह तय हो जाता है कि यह ऐक्‍शन के साथ-साथ रोमांस का भी तड़का लगाएगी। इसमें धमाके होंगे और यह धोखा देने की भी कहानी होगी। फिल्‍म कह कहानी आपको पहले ही सीन से बांधती है और कुर्सी पर बिठाए रखती है। खास बात यह भी है कि यह फिल्‍म 2 घंटे 43 मिनट लंबी है। यह किसी भी पिछली बॉन्‍ड फिल्‍म के मुकाबले लंबी है। लेकिन बावजूद इसके रोमांच ऐसा है कि आप अंत में कुछ और की चाहत रखते हैं।

इस फिल्‍म की कहानी में वह सब कुछ है जो एक बॉन्ड के रूप में आप डेनियल क्रेग से उम्मीद करते हैं। साथ ही यह पुरानी 007 फिल्मों के लिए भी एक श्रद्धांजलि है, जिनमें रोजर मूर और सीन कॉनरी न ऐक्‍ट किया था। जेम्‍स बॉन्‍ड फ्रेंचाइजी फिल्मों की तरह इस फिल्‍म में शानदार गाड़‍ियां है, जिनमें नए और आधुनिक हथ‍ियार लैस हैं। फैंसी गजेट्स हैं। साइंटिफिक फिक्‍शन का ट्विस्‍ट है। खतरनाक ऐक्शन सीक्वेंस हैं और एक ऐसा विलन है, जो कभी नहीं हारता। जेम्‍स बॉन्‍उ एक बार फिर दुनिया को बचाने के लिए निकला है और यह सब आपके अंदर रोमांच जगाता है।

फिल्म में बॉन्ड के कुछ सहयोगी और कुछ पुराने विरोधी उसके ख‍िलाफ खड़े नजर आते हैं। कहानी कुछ इस तरह बढ़ती है कि यह बॉन्ड के रूप में डेनियल क्रेग के कार्यकाल को कुछ हद तक खत्‍म करने की कोश‍िश करती है। आपको यह भी बताया जाता है कि बॉन्‍ड की तरह ही एक महिला एजेंट भी है। इस एजेंट का नाम नोमी है और उसे 007 के रूप में अपॉइंट किया गया था। इस महिला एजेंट को तब नियुक्‍त किया गया, जब जेम्‍स बॉन्ड ब्रेक पर था। हालांकि, यह दर्शकों की सोच और कल्‍पना पर छोड़ा गया है कि आगे इस फिल्‍म फ्रेंचाइजी में क्‍या हो सकता है। दुनिया जहां एक एक महामारी के बीच फंसी है, वहीं यह फिल्‍म डीएनए और नरसंहार से जुड़े एक विषय पर है, जो एक संयोग है। यहां यह बात याद रखने की है कि फिल्‍म बहुत पहले से बन रही थी।
तमाम आशंकाओं और संभावनाओं के बीच यह फिल्म डेनियल क्रेग को एक हीरो के तौर पर सेलिब्रेट करने का मौका देती है। वह इस‍ फिल्‍म में न सिर्फ अपने टॉप फॉर्म में नजर आते हैं, बल्‍क‍ि वह पहले से कहीं बेहतर दिखते हैं। रामी मलिक, हनीबल नेमेसिस के रूप में अपने किरदार से छाप छोड़ते हैं। डायरेक्‍टर कैरी जोजी फुकुनागा ने बॉन्ड फैन्‍स को एक ऐसे सेलिब्रेशन से जोड़ा है, जिसे बरसों तक याद रखा जाएगा। ली सेडौक्स का किरदार जटिल भी है और रहस्‍य से भरा हुआ भी, वह इसे बनाए रखने में सफल होती हैं। जबकि बॉन्ड की असिस्‍टेंट के रूप में एना डे अरमास ने भले ही छोटा रोल किया हो, लेकिन वह याद रखी जाती हैं। लशाना लिंच नई 007 के रूप में प्रभावित करती हैं।

यदि आप जेम्‍स बॉन्‍ड फिल्‍मों के शौकीन और फैन हैं, तो ‘नो टाइम टू डाई’ आपके लिए एक परफैक्‍ट फिल्‍म है। अच्‍छी बात यह है कि यह सिनेमाघरों में रिलीज हुई है। ऐसे में बड़े पर्दे पर इसे देखने का लुत्‍फ जरूर उठाइए

क्यों देखें :
क्योंकि कि ये फिल्म डैनियल क्रेग कि जेम्स बॉन्ड के किरदार मे डैनियल क्रेग कि आखरी फिल्म है, इस फिल्म मे भरपूर एक्शन देखने को मिलता है, इस फिल्म को देखने के लिए दर्शक लम्बे समय से इंतजार कर रहे थे लम्बे इंतजार के बाद आखिरकार अब जाकर सिनेमाघर मे रिलीज़ हुई है,तो इस फिल्म को जरूर देखिये।

Blog by Veer Ahir

Follow me for more Blogs and Books @VeerWriter2021

Follow me on twitter

Shiddat movie review : प्यार और पागलपन से भरी फिल्म,जगी अपने प्यार के लिए देगा जान

राधिका मदान (Radhika Madan) और सनी कौशल (Sunny Kaushal) की फिल्म शिद्दत (Shiddat) आज रिलीज हो गई है. फैंस को इस फिल्म के जरिए फ्रेश कपल दिखने वाले हैं. राधिका और सनी पहली बार साथ काम कर रहे हैं. फिल्म के ट्रेलर को अच्छा रिस्पॉन्स मिला था. तो अब अगर आज आप इस फिल्म को देखने का प्लान बना रहे हैं तो पहले पढ़ लें ये रिव्यू.

फिल्म : शिद्दत

स्टार कास्ट : राधिका मदान, सनी कौशल, मोहित रैना, डायना पेंटी

डायरेक्टर : कुणाल देशमुख

कहानी :
एक यंग लड़का एक लड़की के लिए अपनी जिंदगी बदल देता है. वह सोचता है कि वही उसकी सोलमेट है. लेकिन उसकी जर्नी समस्याओं, वास्तविकता की जांच और एकतरफा जुनून से भरी हुई है. अब क्या वह प्यार पाएगा या प्यार की तलाश में उसका सब खत्म हो जाएगा?

रिव्यू :
इसमें दिखाया गया है कि जग्गी (सनी कौशल) जब कार्तिका (राधिका मदान) को स्विमिंग पूल से बाहर आते हुए देखता है तो उसे एक तरफा प्यार हो जाता है. जग्गी हर मुमकिन कोशिश करता है कार्तिका को इम्प्रेस करने की. आज के समय में एक मोटिवेटेड आदमी एक लड़की के पीछे इस कदम पागल हो जाता है कि वह उसकी ना को एक्सेप्ट ही नहीं करता है. हालांकि राइटर्स श्रीधर राघवन और धीरत रत्तन ने कार्तिका के किरदार को इंडीपेंडेंट बनाया है जो अपने लिए स्टैंड लेना जानती हैं.


शुरू के पहले हाफ की शुरुआत हल्की होती है. इसमें नाच गाना, रोमांस और फ्लर्ट दिखाया गया है. लेकिन फिर धीरे-धीरे यहां जो काम करता है वो है सस्पेंस, जो आपको सोचने पर मजबूर करता है कि इस असंभव प्रेम कहानी का आगे क्या होगा. दूसरे पार्ट में धीरे-धीरे आपको कहानी में मजा आने लेगेगा.

फिल्म के लीड एक्टर्स के अलावा बाकी सपोर्टिंग एक्टर्स मोहित रैना और डायना पेंटी फिल्म की कहानी की सहायता के लिए नजर आए. दोनों ने अच्छी परफॉर्मेंस दी है. लेकिन कहीं-कहीं ये ऑर्गेनिक नहीं लगा.

एक्टिंग :
सनी कौशल ने एक लवर बॉय का किरदार निभाया है. हालांकि इसमें उन्होंने कई रंग भरने की कोशिस की. उनकी इस बेहतरीन परफॉर्मेंस से उनका करियर ग्राफ अब बढ़ सकता है. राधिका ने भी इंडीपेंडेंट और निडर लड़की का किरदार बखूबी निभाया. मोहित रैना अपने किरदार पर परफेक्ट फिट बैठे, वहीं डायना पेंटी ने भी अपना शानदार काम किया. लेकिन अगर उनके किरदार को और स्पेस मिलता तो और अच्छा रहता.

Shiddat poster : Veer the writer



म्यूजिक और सिनेमाटोग्राफी :
लव स्टोरी के हिसाब से फिल्म का म्यूजिक एवरेज रहा. हालांकि अमलेंदु चौधरी द्वारा शानदार सिनेमाटोग्राफी की वजह से फिल्म के विजुएल्स काफी क्लीयर जबरदस्त थे.

क्यों देखें :
अगर आप लव स्टोरी देखना पसंद करते हैं और उसमें थोड़ा मॉडर्न लव का जादू देखना चाहते हैं तो ये फिल्म आपके लिए परफेक्ट है, ये फिल्म लव स्टोरी पर आधारित है, एक लड़का आपने प्यार को पाने के लिए पूरी दुनिया से लड़ जाता है और हजारों किलोमिटर का फासला तय करके अपने प्यार को पाने के लिए निकल पड़ता है, ये फिल्म सबको देखनी चाहिए एक कमाल की फिल्म है



रेटिंग : 3.5

Shiddat poster : veer the writer

Must watch on Disney+ Hotstar

Blog by Veer Ahir

For more bogs and books follow me @veerthewriter

Follow me on twitter